Rakshabandhan 2020 ,रक्षाबंधन कब मनाते हैं, रक्षाबंधन क्यों मनाते हैं इसके पीछे क्या कहानी है?

नमस्कार भाइयों और बहनों।
जैसा कि आप सभी जानते हैं रक्षाबंधन का त्योहार आने वाला है जो कि साल 3 अगस्त 2020 को मनाया जाएगा । सभी भाई और बहन इस त्योहार का बेसब्री से इन्तेजार कर रहे होंगे। उन्होंने इस त्योहार की तैयारी शुरू भी कर दी होंगी सभी भाईयों ने ये सोच लिया होगा या सोच रहे होंगे कि इस साल वे अपनी प्यारी बहनोँ को क्या उपहार देंगे। 
मेरा तो यही मानना है कि जो भी उपहार दो चाहे वो छोटा हो चाहे बड़ा हो उसे पूरे प्यार और विश्वास के साथ देंना चाहिए । 
तो आप सभी भाइयों और बहनों को मेरी तरफ से Happy रक्षाबंधन । आप सभी अपनी जिंदगी ने हमेशा खुश रहें।


आइये अब मुद्दे की बात करते हैं । दोस्तो हम सभी जानते हैं कि रक्षाबंधन पूरे भारत वर्ष में बहुत ही प्यार से और बड़ी धूम धाम से मनाते हैं । सभी भाई अपनी बहन की जीवन भर रक्षा करने का वचन देते हैं और बहने अपने भाई की लंबी उम्र और जीवन मे तरक्की की कामना करती हैं इस दिन भाई बहनों में जो भी गीले शिकवे होते है सब खत्म हो जाते हैं। 

लेकिन क्या हम ये जानते हैं कि 
रक्षा बंधन क्या है?
रक्षाबंधन का त्योहार कैसे मनाया जाता है?
हम रक्षाबंधन क्यों मनाते है?
रक्षाबंधन मनाने के पीछे क्या कहानी है?
साल 2020 में रक्षाबंधन कब मनाया जाएगा?

रक्षा बंधन का त्योहार क्या हैं?
रक्षाबंधन हिन्दू और जैन धर्म का एक प्रशिद्ध त्योहार है जो हर साल श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है जो इस साल 3 अगस्त को आने वाली है यानी इस दिन रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाएगा। इस दिन सभी बहने अपने भाई की कलाई पर एक रक्षा सूत्र बांधती है और भाई से ये वचन लेती है कि वे जिंदगी भर उनकी रक्षा करेंगे और सभी बहने अपने भाई की लंबी उम्र और तरक्की की कामना करती हैं इस सभी भाई अपनी बहनो को उपहार भी देते हैं।
  
साल 2020 में रक्षाबंधन कब मनाया जाएगा?
3 अगस्त 2020

रक्षाबंधन का त्योहार कैसे मनाया जाता है?
इस दिन सभी बहनें निवृत होकर पूजा की थाली सजती हैं। थाली में हल्दी, चावल , दीपक , मिठाई और राखी के साथ कुछ पैसे भी रखती हैं।सभी भाई तयार होकर टिका करवाने के लिए और राखी बंधवाने के लिए एक विशेष जगह पर बैठ जाते हैं । सभी बहनें भाई के माथे पर हल्दी से टिका करके चावल को टिके पर लगती हैं और सिर पर छिड़कती है फिर उनकी आरती उतारती हैं और सीधे हाथ की कलाई पर राखी बांधती हैं और भाई अपनी बहनों को उपहार देते हैं।

रक्षाबंधन क्यों क्यों मनाते हैं इसके पीछे क्या कहानी है?

वैसे रक्षाबंधन का त्योहार इतिहास में कब से मनाना शुरू हुआ ये कोई नही बता सकता । लेकिन हमारे पुराणों में कई बातों का वर्णन मिलता है जिनकी वजह से हम रक्षाबंधन मनाते हैं। 
अगर आपने महाभारत देखी है तो आपको याद होगा कि जब श्री कृष्ण ने शिशुपाल के ऊपर सुदर्शन चक्र चलाया था थ उनकी उँगकी घायल हो गयी थी तभी द्रोपदी ने अपनी साड़ी  से एक टुकड़ा फाड़ कर श्री कृष्ण की उंगली पर बाँधा था तभी श्री कृष्ण ने दर्पदी को उसकी रक्षा करने का वचन दिया था।
पुराणों में ये भी वर्णन मिलता है कि जब दानवों और देवो में युद्ध शुरू हो गया था तब दानव देवों पर भारी पड़ते नज़र आ रहे थे । तब देवराज इंद्र घबरा कर ब्रहपति के पास गए वही देवराज इंद्र की पत्नी बैठी हुई थी और वो सब बातें सुन रहीं थीं फिर उन्होंने एक रेशम का धागा अपने पति देवराज इंद्र के हाथ पर पूरे मंत्र की शक्ति के साथ बांध दिया सयोंग से उस दिन श्रावण मास की पूर्णिमा थी । ऐसा मानना है कि उसी धागे की वजह से इंद्र उस युद्ध को जीतने में सफल हुए । ऐसी कई कथाएँ हमारे पुराणों में मिलती है जिनकी वजह से हम रक्षाबंधन का त्योहार मनाते हैं।


रक्षाबंधन के दिन सरकार द्वारा सभी बहनों को दी जाने वाली सुविधाएँ
इस दिन कई राज्य सरकारें सभी महिलाओं के लिए बस में सफर फ्री करती हैं और उनके डाक सेवा सस्ती कर दी जाती हैं जिससे वे अपने भाइयों के लिए राखी लिफाफे में आसानी से भेज सकें। ऐसे कई सुविधाएं महिलाओं को दी जाती हैं।
 

रक्षाबंधन के समान त्योहार कोंन सा है?
भाई दूज का त्योहार जो दीपावली के बाद मनाया जाता है बिल्कुल रक्षाबंधन की तरह होता है इसमें भी सभी भाई अपनी बहनों को उपहार देते हैं भी उनके मिठाई खिलाकर ये त्योहार मनाती हैं रक्षाबंधन की तरह ही उनके माथे पर टिका किया जाता है बहने अपने भाई की लंबी उम्र की दुआ मांगती है और सभी भी बहनो की रक्षा का वचन देते हैं और उन्हें उपहार देते हैं। साल 2020 में भाई दूज 16 नवंबर को मनाया जाएगा।

दोस्तों उम्मीद करता हूँ आपको हमारा लेख जिसमे हमने जाना कि रक्षाबन्धन क्या है, रक्षा बन्धन क्यो मनाया जाता है , रक्षाबंधन 2020 में कब मनाया जाएगा
अगर आपकी पसंद आया है तो इसे अपने सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें
धन्यवाद

Happy Rakshabandhan In Advance

Post a Comment

Previous Post Next Post